हाइपो थायराइड का इलाज – हाइपरथाइरॉयडिज़्म के घरेलू उपचार

बिजी लाइफस्टाइल के चलते बहुत से लोग घर का खाना नहीं खा पाते और ऐसे में वे बाहर का खाना अधिक खाना पसंद करते हैं। इसके साथ ही भागदौड़ भरी जिंदगी में ना तो लोग एक्सरसाइज कर पाते हैं और ना ही किसी डाइट प्लान को फॉलो कर पाते हैं जिसके कारण मोटापा और अन्य कई बीमारियां व्यक्ति को घेर लेती है। अस्वस्थ खानपान की वजह से हमारे शरीर में हार्मोन असंतुलित हो जाते हैं, जिससे हम थायराइड जैसी बीमारी का शिकार हो जाते हैं।

हाइपो-थायराइड-का-इलाज

हाइपो थायराइड तब होता है जब हमारे शरीर में उचित मात्रा में थायराइड हार्मोन का उत्पादन नहीं हो पाता। थायराइड एक ग्रंथि होती है जो प्रत्येक व्यक्ति के शरीर में होती है। वैसे तो हाइपो थायराइड की समस्या पुरुषों और महिलाओं दोनों में हो सकती है, किन्तु महिलाओं में हाइपो थायराइड की समस्या ज्यादा पायी जाती है।

हाइपो थायराइड के लक्षण

  • ठंड लगना
  • शरीर में भारीपन महसूस होना
  • शरीर में सूजन आना
  • आवाज में बदलाव यानी कि भारीपन होना
  • बहुत कमजोरी महसूस होना
  • त्वचा में इंफेक्शन का होना
  • स्त्रियों में मासिक धर्म के दौरान रक्त स्त्राव अधिक होना
  • बालों का झड़ना
  • याददाश्त का कम होना
  • सुनाई कम देना
  • वजन का बढ़ना

हाइपो थायराइड होने के कारण

  • थायराइड की समस्या हमारे खाने में आयोडीन की कमी की वजह से होती है।
  • गलत खानपान की वजह से हार्मोन्स के असंतुलित होने की वजह से भी थायराइड होता है।
  • थायराइड का एक कारण दवाइयों का साइड इफेक्ट भी हो सकता है।

हाइपो थायराइड का इलाज

नारियल के तेल

नारियल के तेल से बने भोजन का सेवन हाइपो थायराइड में करना चाहिए। क्योंकि नारियल के तेल में फैटी एसिड पाया जाता है, जो थायराइड ग्रंथि को ठीक करता है।

सेब का सिरका

सेब का सिरका हार्मोन के प्रोडक्शन को बैलेंस करने का काम करता है और साथ ही मेटाबोलिज्म में सुधार करता है। सेब के सिरके में एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं, जो हमारे शरीर में थायराइड हार्मोन की मात्रा को बढ़ाता है।

अदरक

अदरक में पोटेशियम और मैग्नीशियम जैसे आवश्यक मिनरल्स पाए जाने की वजह से यह सूजन को कम करता है। अदरक हाइपो थायराइड जैसी कई बीमारियों के उपचार के लिए लाभदायक साबित होता है।

मछली का तेल

मछली के तेल में ओमेगा 3 फैटी एसिड पाया जाता है, जो हमारे शरीर में थायराइड हार्मोन के स्तर को बनाता है।

काले अखरोट

काले अखरोट में पोटेशियम, मैग्नीशियम, आयोडीन, मैग्नीज जैसे कई गुणकारी तत्व पाए जाते हैं, जिसका सेवन हाइपर थायराइड में अच्छा होता है।

Also Read: थायराइड को जड़ से खत्म करने के उपाय

नियमित दिनचर्या में सुधार

इन सबके अलावा आपको अपनी नियमित दिनचर्या में भी सुधार करना चाहिए। इसके लिए आपको निचे बताई गयी बातों का ध्यान रखना चाहिए।

  • तनाव से बचे रहें
  • अच्छी नींद लें
  • रोजाना एक्सरसाइज करें
  • पानी अधिक मात्रा में पिएं
  • आहार में पौष्टिक चीजें शामिल करें
  • फलों का सेवन करें
  • आयोडीन युक्त भोजन करें

इस पोस्ट में बताएं गए तरीकों को अपनाकर आप हाइपो थायराइड की समस्या से निजात पा सकते है। हम आपको बता दे की हाइपो थायराइड की समस्या गलत खानपान और गलत दिनचर्या के कारण से उतपन्न होती है, इसलिए आपको अपने आहार और अपनी नियमित दिनचर्या में बदलाव करना होगा, तभी आप हाइपो थायराइड जैसी बीमारी से छुटकारा पा सकते है।

Also Read: थायराइड के मरीज को कभी नहीं करनी चाहिए ये 7 चीजें

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.